लिखिए अपनी भाषा में

Monday, 18 February 2013

इंटरनेट पर बिश्नोई राज

बिश्नोईज्म को विश्वपटल पर पहचान दिलाने में इंटरनेट एक सशक्त जरिया बनाहै। नेट पर बिश्नोईयों को हर किसी ने चाहा तथा सम्मान दिया है। विदेशियोंकी वेबसाइटों पर भी अबबिश्नोईज्म के बारे में देखने को मिल रहा है।बिश्नोईज्यम इस पहल की शुरुवाती वेबसाइट है। इस वेबसाइट पर बिश्नोईज्मके बारे में सम्पूर्ण जानकारी को सर्वप्रथमसंग्रहीत किया गया। इंटरनेटपर बिश्नोईज्यम को अपनी पहचान दिलाने के लिए ब्लॉग भी सशक्त माध्यम बनकरउभरे हैं, इंटरनेट पर बिश्नोईज्यम और साहित्य के प्रचारक तथा साहित्यकारइन माध्यमों से निरंतर जुड़ रहे हैं।बिश्नोईज्यम के वेबसाइट व ब्लॉग जोअभी तक सामने आएं हैं, उनमें बिश्नोईज्यम कीसभ्यता(वन्यजीव व पर्यावरणरक्षण), साहित्य एवं संस्कृति के साथ-साथ दूसरे विषयों की जानकारी भीदेखने में आती है।बिश्नोईज्यम के बारे में संपूर्ण जानकारियों कोप्रस्तुत करने वालीप्रमुख वेब साईट-बिश्नोईज्यम, विश्नोई नेट, मुक्ति धाम मुकाम, बिश्नोई समाज, महत्वपूर्ण ब्लॉगस :-The unofficial yet most popular blog on Bishnoism,विश्नोई, बिश्नोई कम्युनिटी, दी बिश्नोईज्यम, विश्नोई पेजदी बिश्नोईज्यम पेज, बिश्नोई न्यूज, धोरीमन्ना टेगलाइनऔर भी बहुतसे है।इंटरनेट पर बिश्नोईज्यम की जो साहित्यिकवेब-पत्रिकाएं सामने आई हैं, वे इस प्रकार है-अमर ज्योति, बिश्नोई संदेशजम्भ साधना आदि । जांभाणी साहित्य के प्रचार-प्रसार व देश विदेश में जांभाणी साहित्य संग्रहालयों की स्थापना हेतु जांभाणी साहित्य अकादमी की स्थापना की गई है। वन्यजीव रक्षा हेतु भी कई संस्थाएं कार्यरतहै ,जो है - अखिल भारतीय बिश्नोई जीव रक्षा संस्था, श्री जम्भेश्वर पर्यावरण एवंजीवरक्षा प्रदेश संस्था राजस्थान फेसबुक पर भी बिश्नोईयों को अत्यंत सम्मान मिला है। फेसबुक पर बिश्नोईयो का सूत्रपात करने के लिए वरिष्ठ साहित्यकार संतोष पुनिया का नाम गर्व से लिया जाता है। वहीं युवाओं के आइकन चौ. कुलदीप बिश्नोईकृपाशंकर पहलवान(बेनिवाल) और विश्व पर्यावरण सुरक्षा के लिए प्रेरणादायी कार्य करने वाले पर्यावरण प्रेमी खम्मुराम बिश्नोई भी इस क्षेत्र में सक्रिय है। पिछले 2 सालों से फेसबुक पर बिश्नोईयों की संख्या में इजाफा हो रहा है तथा संवाद की माध्यम पर्यावरण व वन्यजीव रक्षा बना है। फेसबुक पर मुख्यत: बिश्नोईज्यम के साहित्यिक पेज:- श्री गुरु जम्भेश्वर पेज, बिश्नोई हो? तो देखते ही लाइक करें, बिश्नोई धर्म, श्री गुरु जम्भेश्वर धाम जाम्भा, बिश्नोई कम्युनिटि Posted by: « The Tree Hugger »

Monday, 31 December 2012

आओ मिलकर माँगे दुआएं

आओ मिल कर नए सालमें, माँगे यही दुआएं। प्यार मोहब्बत और अमन की, जग में चले हवाएं।। नदियों में बहती रहे, निर्मल जल की धारा। प्रदूषण से मुक्त रहें, पर्यावरण हमारा।। जड़ी बूटियां फूलें फलें, अमृत हो दवाएं। हर दिन हो खुशियों भरा, उत्सव सी निशाएं।। इस धरती की मिट्टी भी, उगले कोरा सोना। अंबर से अमृत बरसे, भर जाए कोना-कोना।। फल फूलों से वृक्ष सदा, लदे रहें भरपूर। हर चेहरा एक चाँद हो, हर जर्रा एक तारा।। दसों दिशा की खुशबू से, महके आलम सारा।। ::

The Bishnoism JAi Bishnoi
<

Thursday, 1 November 2012

ब्रह्म मुहूर्त में स्नान का महत्व -"""सेरा करो स्नान"""-

सेरा उठे सुजीव छाँण जल लीजिए, दातण कर करे सिनान जिवाणी जल कोजिये" बत्तीस आंखड़ी(वील्हाजी) । प्रातःकाल ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सर्वप्रथम शौचादि क्रिया से निवृत होकर दांतुन करें, फिर छाँण कर जल ग्रहण करके स्नान करें। यहीं से जीवन गति प्रारंभ होती है। स्नान करने के पश्चात ही अन्य कोई घर का कार्य या पूजा पाठ हवनादिक हो सकता हैं। बिना स्नान किए तो कुछ भी शुभ कार्य नहीं हो सकता। रात्रि में हम लोग शयन करते हैं तो एक प्रकार की मृत्यु हो जाती हैं,बुरे स्वप्न आते हैं, आलस्य का आक्रमण हो जाता हैं जिससे शरीर अस्वस्थ, आलसी, कर्तव्यमुढ़ हो जाती हैं। कोई भी शुभ दिनचर्या नहीं बन पाती है। इन्हीं सभी शारीरिक दोषों की निवृति के लिए प्रातःकालीन स्नान का विधान किया हैं। प्रातःकालीन स्नान से शरीर शुद्ध पवित्र तथा स्वस्थ होगा तो इस शरीर में स्थित मन, बुद्धि आदि भी पवित्र होंगे तथा सभी कार्य सुरुचिपूर्ण तथा सफलतापूर्वक ही होंगे। शब्द नं. 104 के प्रसंग में गुरु जाम्भोजी ने वस्त्र, हाथी, घोड़ा, घी आदि के दान से भी अधिक महत्वपूर्ण स्नान को स्वीकार किया हैंक्योंकि दान का प्रभाव तो क्षणिक होता हैं किन्तु स्नानादिक पवित्र दिनचर्या का प्रभाव दिर्घकालीन होता हैं, इनसे जीवन निर्माण होता हैं। इस स्नान करने के नियम केकारण तो बिश्नोईयों को अन्य लोग स्नानी कहते हैं और बड़ी ही श्रद्धा की दृष्टि से देखते हैं। क्योंकि उन्हें मालूम है कि जो प्रातःकाल स्नान करेगा वह निश्चित ही परमात्मा का स्मरण, संध्या, हवनादिक शुभ कार्य करके उसके बाद वो अन्य कार्य करेगा। वह निश्चित ही धार्मिक व्यक्ति होगा तथा उनका अन्य लोगों से अधिक शरीर स्वस्थ रहेगा,प्रत्येक काम करने में सबसे आगे रहेगा। यही सभी कुछ एक स्नान के बदौलत से ही संभव हो सकती हैं। कुछ वर्षपूर्व तक इस स्नान के नियम का पालन अच्छी तरह से होता था। छोटे बच्चे को भी बिश्नोई के घर में बिना स्नान किए भोजन नहीं खिलाना जाता था, सभी के लिए स्नान करना अनिवार्य था। जिससे आगे चलकर आदत पड़ जाने से बिना स्नान किए भोजन नहीं कर सकते थे किन्तु इस समय कुछ शिथिलता नजर आ रही है। नियम की यह महत्वपूर्ण कड़ी यदि टूट जाएगी तो फिर यह श्रखला कैसे जुड़ पाएगी। अन्य शास्त्रकार इस नियम की महत्ता को नहीं देख पाए थे इसीलिए अधिक चर्चा का विषय नहीं बन पाया किन्तु जम्भदेवजी ने ठीक से पहचान करके अपने शिषयों के प्रति बनवाया था।

Wednesday, 31 October 2012

नवण-प्रणाम

हम हमारी जानकारी के अनुसार वर्णन करने की कोशिश करेंगे और आशा है कि यह सहायक होगी।नवण/निवण स्थानीय राजस्थानी शब्द है,नमन (झुक कर प्रणाम) नम्रता के साथ, जैस किहिन्दी में नमस्कार इसी का भाग है।इसलिए नवण/निवण करने से आश्य आदरपूर्वकअंहकार शुन्य भाव से प्रणाम करने से है।दूसरे राजस्थानी समुदायों में इसे निवणकरां सा कहते है।आपने देखा होगा कि कुछ लोग आदरपूर्वक अपने हाथ मिलाते है या जोङकर नवण-प्रणाम करते है। वास्तविकता में यह शारिरीकआदर का शब्द है।गुरु महाराज ने इस शब्द का प्रयोग कई शब्दों में किया है जैसे कि शब्द 23 व 30 वें शब्द में "निवीयेनवणी, खविए खवणी" से अभिप्राय यदि इस संसार में नमनकरने योग्य व्यक्ति से नमन करते हुए अर्थात निरभिमानी होते हुए क्षमा करने योग्यजगह पर क्षमाशील होते"पवणा पाणी नवण करंतो" परमपिता परमेश्वर सबमें स्वामी,पवनदेवता, जलदेवता चन्द्रदेवता आदि है।जीवनयापन करते हुए तूनेँ इनको कभी नमन नहीं किया।क्योंकि जो देता है वही देवता है।ये तो सभी हर क्षण हमें अपनी ऊर्जा शक्ति देते ही रहते है इसलिएये सभी जीवनदाता देव नमन करने योग्य हैं।शब्द 5.नमो नारायण- हमें भगवान कोनमन(नवण) करना चाहिए।शब्द 98. "जाकै बहुती नवणी बहुतीँ खवणी"गुरु जम्भदेव कहते है किअहंकार शुन्य जो व्यक्ति है तो उसके जीवन में अत्यधिक नम्रता आ जाती है।क्षमाशीलभी उनमें स्वाभाविक हो जाती है।गुरुजी हमेशा नेसादा व आदर्श जीवन को महत्व दिया लेकिन दुःखदबात तो यह है कि बिश्नोई समाज के अधिकतर लोग दूसरे राहों पर चल रहे हैँ। -:नवण-प्रणाम का प्रतिउत्तर:- अगर कोई कहे- "नवण-प्रणाम तो हम उसे कहते है,"जाम्भोजी ने विष्णुजी ने" हम इसके माध्यम से गुरु जाम्भोजी व विष्णुजी को याद करते है। साधारणतया हम भोजनका पहला निवाला मुँह में लेने से पूर्वविष्णुजी ने अर्पण कहते हैं। इस माध्यम से हमारा भोजन गुरु जाम्भोजी व विष्णुजी को भोग होता हैं। यह ध्यानयोग्य बातहै कि हम हमेशा भगवान को खाना ऑफर करते है और धन्यवाद कहतेहैं। और हम नवण-प्रणाम उपयोग गोर करें तो उसके जवाब में हमें दो शब्द भगवान केही लेने पङते हैं।हमारे समाज में ये कुछ अच्छे माध्यम है जिससे हम एक दिन में साधारणतया कई बार गुरु जाम्भोजी व विष्णुजी का नाम होते है।कई लोग हेल्लो ,हाय भी कहते है लेकिन यह शब्द हमें attractive तो लगता है पर इससे कुछप्राप्ति नहीं, इससे अच्छा है हम हमेशा नवण-प्रणाम ही कहे ताकि भगवान का स्मरण हो सक

पशु प्रेम का अनुपम उदाहरण है श्री गुरु जम्भेश्वर धामजाजीवाल धोरा ।

मानव और पशु प्रेम की यह उद्भुत लीला जाजीवालबिश्नोइयान में गांव से एक किलोमीटर दूर पश्चिम दिशा में एक बहुत बड़ाधोरा पर स्थित जम्भेश्वर भगवान के मंदिरमें रह रोज साकार होता है। यहां हर रोज 120 शब्दों का यज्ञ(हवन) होता है और हर रोज गाँवके लोग यज्ञ में आहुति देने आते है। यज्ञ की सुगंध से आसपास के हरिण यहां आकर प्रसाद के लिए एकटक खङे रहते है। और संत उन्हें प्रसादस्वरूप मखाणे देते हैं। वे संत के हाथ का प्रसाद चट कर वापिस कुलांचे भरते हुए दौङ जाते है। मतलब जो हिरण कभी यहाँ पालतू हुआ करते थे।हवन में ग्रामीण आखा(अनाज) आदि लेकरआते है जो आसपास के जंगल में स्वछंद विचरण करते हरिण, मोर आदि वन्य प्राणियों केभोजन का सहारा है। समराथल की ही भाँति यहाँ 500 बिघा जमीन पर घना जंगल है। इस जंगल में विभिन्न प्रजातियों के हरिण है और इतने हीमोर है यही नहीं अन्य सभी प्रकार के वन्यजीव भी यहाँ बहुतायत है।यहां के हरिण और मोर लोगों के साथ इस तरह घुल मिल गए हैं कि लोगों को देखते ही हरिण उनके पास आ जातेहै। यहाँ हरसमय वन्य जीवों की चहल पहल से बड़ा ही मनोरम दृश्य रहता है। जब भी लोग इसमंदिर पर आते है तो... इस मंदिर के आस पास चार पाँच किलोमीटर केक्षेत्र में फैले जंगल को देखकर उन्हें लगता है... वो शायद अफ्रीका की किसी वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में आ गए है। यह बिश्नोई बाहुल्य वाला क्षेत्रहै। जिससे वन्यजीवों को प्राकृतिक संरक्षण प्राप्त है ।

वन सम्पदा का सरक्षण समय की पुकार।

°°वन सम्पदा का संरक्षण समय कि पुकार°°

वन, वनस्पति और जीव-जन्तुओं का जीवन अन्य पर आश्रित है, अतः मानव मात्र का कर्तव्य है की वनस्पति या वन-सम्पदा का विकास एवं संरक्षण करें ! ज्यों-ज्यों वन सिमटते जा रहें है, पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है, जलवायु में विनाशकारी परिवर्तन आने लगे हैं अतः आगामी समय को मंगलकारी बनाने के लिए उच्चस्तर पर वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाया जाना चाहिए | हमारी सभ्यता व संस्कृति वन-प्रधान रही है, इसे स्थाई व अमिट रखना हम सबका दायित्व है निवेदक::-The Bishnoism